UN के आतंकवाद विरोधी मिशन में भारत का आर्थिक योगदान

0 Comments

भारत ने संयुक्त राष्ट्र आतंकवाद विरोधी ट्रस्ट फंड (सीटीटीएफ) में 500,000 डॉलर का योगदान देकर आतंकवाद के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में अपने समर्पण की पुष्टि की है। यह योगदान भारत की चल रही प्रतिबद्धता को मजबूत करता है और आतंकवाद के खिलाफ विश्व समुदाय के साथ उसकी सहयोगी भूमिका को पुष्टि करता है।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि, राजदूत रुचिरा कंबोज ने 7 मई को अवर महासचिव व्लादिमीर वोरोनकोव को योगदान सौंपा। इस योगदान से भारत ने आतंकवाद के खिलाफ विश्व समुदाय के साथ अपनी सजगता और साझेदारी का संकेत दिया है।

इस वित्तीय सहायता के माध्यम से, भारत ने आतंकवाद के खिलाफ बहुपक्षीय प्रयासों को बढ़ावा देने के लिए अपना योगदान दिया है। इस योगदान का मुख्य उद्देश्य आतंकवाद को रोकने और विश्व शांति और सुरक्षा को बढ़ावा देना है।

भारत का यह पहला सीटीटीएफ में योगदान है, जो उसके आतंकवाद के खिलाफ साझेदारी में अपनी भूमिका को मजबूत करता है। यह योगदान भारत की प्रतिबद्धता को और भी समर्थ बनाता है और विश्व समुदाय को आतंकवाद के खिलाफ संघर्ष में साथ चलने के लिए प्रेरित करता है।

इस प्रकार, भारत के सीटीटीएफ में योगदान से दिखाता है कि वह आतंकवाद के खिलाफ वैश्विक समुदाय में अपना समर्थन और समर्पण प्रकट करता है। यह साझेदारी आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में एक महत्वपूर्ण कदम है और आतंकवाद के हमलों को रोकने में समर्थ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.